Flash Sale! to get a free eCookbook with our top 25 recipes.

पहाड़ों पर सुरक्षित ट्रैकिंग कैसे करें

Mountain Trekking Scoutripper

पहली बार ट्रैकिंग पर जाना तो वास्तव में दिल को ख़ुश कर देने वाला अनुभव होता है। ट्रैकिंग एडवेंचर से भरपूर एक शौक होता है जो ज़्यादातर उन लोगों में पाया जाता है जो कि प्रकृति प्रेमी होते हैं। इसे हम एक शौक और स्पोर्ट्स दोनों ही मान सकते हैं।अगर ट्रैकिंग को एक शौक़ के तौर पर लिया जाए तो इसके मानसिक और शारीरिक दोनों ही प्रकार के फ़ायदे एक इंसान को मिलते हैं।

एक सफल ट्रैक वही होता है जो एक बेहतरीन तैयारी के साथ किया जाए। जब आप ख़ुद को ट्रैकिंग के लिए तैयार कर रहे होते हैं तो सबसे पहला सवाल ये उठता है कि पहाड़ों पर एक सुरक्षित ट्रैकिंग किस प्रकार की जा सकती है क्योंकि हिमालय पर स्थित कई ट्रैक्स काफ़ी ऊँचे एल्टिट्यूड पर स्थित हैं।

यहाँ कुछ आवश्यक निर्देश दिए जा रहे हैं जिनका अनुसरण बच्चों के द्वारा ट्रैक पर जाने से पूर्व किया जाना चाहिए,

सही बैग (रकसैक) का चुनाव

जब आप ट्रैक के लिए तैयारी कर रहे होते हैं तो आपके दिमाग़ में सबसे बड़ी समस्या ये होती है कि आप पैकिंग किस प्रकार करें। एक तरफ़ आपको ट्रैक के अनुसार ही अपना सामान पैक करना होता है वहीं दूसरी ओर आपको ये बात भी सुनिश्चित करनी होती है कि आपका बैग हद से ज़्यादा भारी न हो जाए। एक 60 लिट्टर भारी बैक आपके सामान को ले जाने के लिए पर्याप्त है, अगर आप ट्रैकिंग पर अकेले जा रहे हैं तो आप रकसैक, टेंट और स्लीपिंग बैग्स को अपने साथ ले जा सकते हैं।

उस इलाक़े का मैप या मानचित्र

मानचित्र एक अत्यधिक आवश्यक वस्तु है।हालाँकि भारत में ट्रैकिंग से संबंधित ज़्यादातर मैप्स या मानचित्र उपलब्ध नहीं है, लेकिन आप अपना ख़ुद का एक टेम्परेरी मैप अपने साथ ले जा सकते हैं। आप क्षेत्रीय या लोकल लोगों की सहायता से एक मैप बना सकते हैं और इसके द्वारा आप अपनी डेस्टिनेशन पर आसानी से पहुँचने में ख़ुद की मदद कर सकते हैं। भिन्न भिन्न इलाकों को एक उचित प्रकार से मैप पर ऑर्गनाइज करना सीखें ताकि आप लैंडफ़ॉर्म्स को देखकर मैप पर अपनी स्थिति का अंदाज़ा कर सकें। ये वास्तव में कंपास प्रयोग करने से ज़्यादा सरल चीज़ है जिसको आप कुशलता से इस्तेमाल भी कर सकते हैं।

जूतों का प्रकार

आरामदायक या कंफर्टेबल जूते जो कि फफोले की समस्या को जन्म न दें, ऐसे फुटवियर्स को ढूंढने में हमारा थोड़ा समय लग सकता है। आपको बूट्स और अच्छी फिटिंग के जूतों पर ध्यान देना चाहिए और ऐसे फुटवियर से बचना चाहिए जो कि आपको नुक़सान पहुँचाते हैं और फ़िट भी नहीं आते हैं। आपको धैर्य रखना होगा और जब तक आपको सही प्रकार के फुटवियर नहीं मिल जाते हैं तब तक आपको इन्हें ढूंढने का प्रयास करना होगा।

हिमालय ट्रैक के लिए सबसे उत्तम जूते वास्तव में ट्रैक 100 ट्रैकिंग जूते हैं। इसके कारण ये हैं-

एक्सीलेंट ग्रिप

पूरी तरीक़े से वाटरप्रूफ़

तीन मुलायम गद्देदार परतें

क्रॉस कांटेक्ट सोल

लाईटवेट या हल्के

मज़बूत या टिका

PU मिड सोल

हर किसी के पैरों का साइज़ अलग अलग होता है। बूट्स, मिड्स या फिर ट्रायल रनर्स, इनमें से आप कुछ भी चूज करें इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता। इनके फ़ायदे और नुक़सान दोनों ही हैं।

एक ग्रुप की खोज करें

एक अच्छा हाइकर बनने का सबसे अच्छा तरीक़ा ये है कि आप दूसरे लोगों के साथ हाइकिंग करें क्योंकि यह काफ़ी मज़ेदार और मोटिवेटिंग (प्रेरणादायक) होता है। अगर आप अटलांटिक सीबोर्ड (समुद्र के किनारे) रहते हैं तो आपको ये जानना चाहिए कि वहाँ पर द अप्लीकेशन माउंटेन क्लब के अनेक क्षेत्रीय चैप्टर्स हैं जो अच्छी हाइकिंग ऑफ़र करते हैं और आप उनको ज्वाइन कर सकते हैं।

पर्याप्त नमी की आवश्यकता

जब आप हिमालय की ऊंचाइयों पर होते हैं तो वहाँ का मौसम काफ़ी ठंडा और ड्राई होता है जिस कारण आप अपने शरीर से हर साँस के साथ नमी खोते जाते हैं और ट्रैक के कारण आने वाला पसीना भी आपके शरीर से नमी को दूर करता रहता है। इस कंडिशन में आपके शरीर को कितने पानी की आवश्यकता है ये सीखना एक महत्वपूर्ण चीज़ है, इसलिए इस बात पर ध्यान दें कि आपके शरीर को किस चीज़ की आवश्यकता है।अतः ज़्यादा से ज़्यादा पानी पीने की आदत को विकसित करें।

समय योजना है आवश्यक

ड्यूरेशन की प्लानिंग करना एक बेहद महत्वपूर्ण चीज़ है जो कि ये दिखाता है कि आप अपनी मंज़िल के शुरुआत से लेकर आख़िर तक के पॉइंट को बिलकुल सही से योजनाबद्ध करके चल रहे हैं। जब आपकी ट्रेनिंग चल रही हो तो आपको इस बात का प्रयास करना चाहिए कि आप रात्रि में कम से कम 8 घंटों की नींद अवश्य लें। अकसर लोग हायर या ऊँचे एल्टिट्यूड पर कम सोने की समस्या से पीड़ित हो जाते हैं और इस तरह वे अपनी नींद को खोकर अपनी मुहिम को और ज़्यादा चैलेंजिंग बना लेते हैं।

विविध

  1. फिजिकल फ़िटनेस (शारीरिक फुर्ती)
  2. मेंटल इन्टीग्रिटी (मानसिक शांति)
  3. बैकपैकिंग और ट्रैकिंग सामग्री
  4. लागत
  5. ट्रैकिंग का ग्रेट
  6. छुट्टियों का मैनेजमेंट
  7. आपके साथी