Flash Sale! to get a free eCookbook with our top 25 recipes.

सच्चाई या कल्पना: अटलांटिस का खोया हुआ शहर, एक्वामैन

महासागरों में ऐसे रहस्य दबे हुए हैं जो लॉजिक से बिलकुल परे हैं।अटलांटिक में डाकुओं की कहानियाँ, नेवरलैंड (काल्पनिक जगत), बरमूडा ट्राएंगल ने हमारे दिमाग़ को अच्छा ख़ासा लुभा रखा है। समुद्र के अंदर बड़ी मात्रा में दबी हुई कहानियां और लोक कथाएँ हमें अनेकों खोज व जाँच पड़तालों की तरफ़ ले जाती हैं। वैज्ञानिक और तर्कवादी लोग इस रहस्य को सुलझाने के लिए सुरागों की खोज में लगे रहते हैं।

कुछ रहस्यों से पर्दा उठ चुका है लेकिन अभी भी कुछ ऐसे रहस्य बाक़ी हैं जिनके बारे में कोई अनुमान नहीं लगाया जा सका है। लेकिन लोगों के दिमाग़ में छपी अटलांटिस के खोए शहर की आकर्षक तस्वीर का आज भी कोई मुक़ाबला नहीं है। लेकिन ये सच है या फिर कोई कल्पना इस बात पर आज भी तर्क वितर्क होता रहता है। तो यहॉं अटलांटिस के खोए हुए शहर के विषय में कुछ अनोखे तथ्य हैं जो हर किसी को जानने चाहिए।

एक खोए हुए शहर की अनंत कल्पना

अटलांटिस की कहानी अनंत है और ये ग्रीक राजनैतिक दार्शनिक प्लेटो से जुड़ी हुई है। अटलांटिस एक ऐसी कहावत का बेहतरीन उदाहरण है जो हमें ये बताता है कि किस तरह महान चीज़ें समय के बर्बाद हो जाती हैं और उसके बावजूद अस्तित्व में रहती हैं। ये हमें यह भी बताता है कि ये दुनिया एक रहस्यमयी स्थान कैसे है।अटलांटिस पानी के अंदर खोए हुए एक राज्य से कहीं ज़्यादा है। इसकी गहरायी के अंदर ऐसे राज दफ़न हैं जिसके कारण लेखक और खोज करने वाले अपने दिमाग़ पर भी संदेह करने लगते हैं (अर्थात पानी में अनेकों अनसुलझे रहस्य डूबे हुए हैं जिन को सुलझा पाना काफ़ी मुश्किल काम महसूस होता है।)

रहस्यमयी आईलैंड का आकार

वे थ्योरीज जो आईलैंड के आकार के विषय में अनुमान लगाती हैं उनमें काफ़ी मतभेद हैं।वास्तविक ग्रीक पुराणों के अनुसार अटलांटिस को महासागर के मध्य में मौजूद संपर्क स्थली या संपर्क नगर कहा जाता है जिसका आकार एशिया और लीबिया को मिला देने पर आने वाले आकार से काफ़ी बड़ा था। ये असंभव है। इस बात की कल्पना करना असंभव है कि किसी शहर का आकार दो देशों को एक साथ मिलाकर बनाए गए आकार से भी बड़ा हो सकता है।

प्रेम का भवन

इस ख़ूबसूरत शहर अटलांटिस का निर्माण स्लीटो (सकारात्मकता) की चोटी पर ग्रीक महासागर देवता पोस्वायडन के द्वारा किया गया था। जब वे इस आइलैंड पर आए तब उन्हें स्लीटो नाम की एक नश्वर औरत से प्यार हो गया और उन्होंने उससे अपना प्यार जताने के लिए इस शहर का निर्माण उसी के नाम पर कर दिया। प्यार के लिए इतना कुछ! लेकिन ये प्यार उन्हें उसे खंदको के द्वारा घेर दिए जाने के लिए नहीं रोक पाया क्योंकि उन्हें इस बात की जलन थी कि उसकी सुन्दरता को अन्य पुरुष भी देखें।अच्छे रिश्ते में ये चीज़ शायद सही नहीं है।

समुद्र के अंदर सोने की मूर्ति

समुद्र के अंदर मूर्तियां और खज़ाने दफ़न होने की बात हम सभी जानते हैं और अटलांटिस भी इससे अलग नहीं है। पोस्वायडन और स्लीटो के दस पुत्रों ने अटलांटिस के शहर पर राज्य किया। सबसे बड़ा बेटा एटलस सबसे पहला शासक बना। उसने अपने पिता को सम्मान देने के लिए एक बेहद असाधारण और पेचीदे मंदिर का निर्माण करवाया जिसकी घुमावदार छत बादलों तक पहुँच सकती थी।मंदिर में पोस्वायडन की एक मूर्ति थी जिसमें वह एक ऐसे रथ पर सवार था जिसको पंख वाले घोड़े खींच रहे थे।ये मूर्ति भी अब तक नगर की भाँति खोजी नहीं जा सकी है।

एलियन्स के द्वारा राज्य किया गया शहर

कहानीकारों का कहना है कि असली अटलांटिक शहर के वासी एक दूसरी आकाशगंगा से आए थे।ये एलियंस मानवों से काफ़ी ज़्यादा मिलते जुलते थे लेकिन क़द के मामले में ये मानवों से श्रेष्ठ और तीखे नाक नक़्शे वाले प्राणी थे। उनके पास ऊर्जा और प्राकृतिक चीज़ों को वश में कर लेने की शक्तियां भी थी। शायद अत्यधिक शक्तियों का प्रयोग करने के कारण वे इस शहर में क़यामत या तबाही ले आए थे।

पोस्वायडन ने स्वयं शहर को तबाह किया

अटलांटिस धन और खुशियों से भरपूर एक सुखमय शहर था। पोस्वायडन के बेटों ने कई स्थलों और मंदिरों का निर्माण करवाया लेकिन उनमें अच्छा शासक बनने वाले गुणों की कमी थी। सभी भाइयों के बीच झगड़े फ़साद हुआ करते थे।पोस्वायडन के उपदेवता रूपी पुत्र स्वार्थी हो गए थे।अटलांटिस की कहानी हमें यह बताती है कि ईश्वर के द्वारा की गई रचना में भी गलतियाँ हो सकती हैं। अपनी रचना में दोष देखकर उन्होंने अटलांटिस के शहर को महासागर में डुबो दिया।

अटलांटिस की कहानी ने कई लेखकों के लिए कल्पना के द्वार खोल दिए हैं। रहस्यों के कारण कई फ़िल्मों का निर्माण किया जा चुका है और अनेकों पुस्तकें लिखी जा चुकी हैं। आपको रिक रियोर्डन के द्वारा रची गई डिज़्नी की छोटी जलपरी या पर्सी जैक्सन याद होगी। खोए हुए शहर के रहस्य में एक लोकप्रिय सभ्यता फली फूली थी। कौन जानता है कि ये सच्चाई है,या फिर ये बस एक झूठी पुरानी कहानी है।